Sahara India Latest News Today
Latest News Sahara India News Sahara News Today

Sahara India Latest News Today : सहारा सहित अन्य चिटफंड कंपनियों में 1800 करोड़ रूपए डूबे, मिलने की उम्मीद पर 2 घंटे में 617 लोगों ने अप्लाई किया

Sahara India Latest News Today : सहारा सहित अन्य चिटफंड कंपनियों में 1800 करोड़ रूपए डूबे, मिलने की उम्मीद पर 2 घंटे में 617 लोगों ने अप्लाई किया

|| Sahara India News, Sahara India News Today 2023, Sahara India News Today 2023 In Hindi, Sahara India Ka Paisa Kab Milegsa, Sahara Ki Agali Sunvai Kab Hai, सुब्रता रॉय, Sahara India Pariwar, Sahara India High Court News, Sahara India Supreme Court News || 

Sahara India न्यूज़ के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप को ज्वाइन करे

WhatsApp Group  
  Join Now  
Telegram Group
 Join Now
Follow On google 

आपको बता दें कि सहारा इंडिया को लेकर जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं इसी बीच एक अच्छी खबर निकल कर आ रही है जिसमें बताया जा रहा है कि 2 घंटे में 617 लोगों ने अपने पैसे वापस करवाने के लिए अप्लाई किए हैं आइए जानते हैं क्या है पूरा खबर (Sahara India Latest News Todasy) ।

झांसी के कलेक्ट्रेट में लोगों के द्वारा लंबी लाइन है। चेहरे पर सभी लोगों की परेशानियां झलक रही है। लोग यही आस में है उनकी डूबी हुई जमा पूंजी वापस (Sahara India Refund) मिल जाए। ऐसा अनुमान है कि सहारा इंडिया समेत चिटफंड कंपनियों में लगभग 18 सौ करोड़ रुपये का उनका निवेश किया गया रकम फंसा हुआ है। अब यूपी शासन ने ऐसे लोगों की लिस्टिंग के लिए एडवाइजरी जारी किया है। और इसके लिए लगभग दो घंटों में 617 लोगों ने अप्लाई भी कर दिया।

6 फरवरी 2023 से अब तक के 1123 लोग सामने आए

जानकारी के मुताबिक कलेक्ट्रेट में अपर जिलाधिकारी के न्यायालय कक्ष में अलग से एक विंडो खोला गया जिस पर लगभग पिछले 6 फरवरी से आवेदन किए जा रहे हैं। वही वर्क इन 5 दिनों में 500 छात्रों ने आवेदन किया था जबकि सोमवार को पीड़ित की संख्या बढ़ने लगी। भीड़ को देखते हुए एक ही जगह दो विंडो खोलनी पड़ी दोपहर 3:00 से 5:00 बजे के बीच 617 पीड़ितों ने आवेदन किया।

ये भी पढ़े >>> Sahara India News : सहारा इंडिया भुगतान को लेकर जारी किया गया नया नोटिस, सहारा इंडिया का पैसा कब मिलेगा, जानिए पूरी खबर

इन सभी लोगों की परेशानि महानिदेशालय के पोर्टल पर अपलोड होगी

जानकारी के मुताबिक सोमवार को हालत देखते हुए सुबह से ही पीड़ित कलेक्ट्रेट आना शुरू हो गए। दोपहर तक महिला और पुरुषों की लंबी-लंबी कतारें लग गई लोगों ने आवेदन जमा किए घंटों लाइन में इंतजार किए बता दे कि यहां आवेदन 6 मार्च तक दोपहर 3:00 बजे शाम से 5:00 बजे तक किया जाएगा।

इसके बाद आवेदनों की संस्थागत वित्त, बीमा साहित्यिक परियोजना महानिदेशालय के पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। इसके बाद निस्तारण की दिशा में कार्यवाही होगी।

कैसे फंसा 1800 करोड़ रुपये

बहुत से चिटफंड कंपनियां होती है जो लोगों को झांसा देकर उनसे पैसे ऐंठ लेती है। सहारा सबसे बड़ी चिटफंड कंपनी है जिसने पिछले एक दशक में कई स्कीम लांच कर के लोगों के पैसे के साथ खिलवाड़ की। रुपयों को फिक्स पीरियड में डबल करने का दावा सहारा इंडिया कंपनी किया करती थी और देती भी थी। कई स्कीमें लोगों को चैन बनाकर बिजनेस करने के लिए कहा गया। थोड़ी-थोड़ी रकम लगाने वाले को शुरुआती दौर में अच्छा रिटर्न मिला।

मगर फिर कंपनियों ने बड़ी रकम को जप्त करने का अचानक अपना बिजनेस समेट लिया अब करीब सहारा इंडिया समेत तमाम चिटफंड कंपनियों में झांसी के लोगों के लगभग 18 करोड रूपए पैसे हुए हैं।

कई सालों से पीड़ित प्रदर्शन कर रहे हैं पिछले दिनों पीड़ितों ने महानगर में जाम लगा दिया था। तब अधिकारियों ने पैसा दिलाने का भरोसा दिया गया था अब प्रशासन ने आवेदन के साथ ब्योरा मांगा है उम्मीद जताई जा रही है कि प्रशासन के एक्टिव होने से अब पैसा मिलने वाला है।

Important Link 

Sahara India News Today  यहाँ से देखे 
Sahara India Official Website  यहाँ से देखे 
Sahara India Refund Status  यहाँ से देखे 
Sahara India Helpline Number  यहाँ से देखे 

 

By Ankit Kumar
Hi, my name is Ankit Kumar. I am a native of Bihar state and have obtained a degree in Patna from Magadh University. I have spent 3 years in this field. I have been working mainly on Sarkari Idea website for almost 2 years. Our aim is to keep the common man in mind and deliver the news he needs. The news of country and abroad, latest developments of states, entertainment, automobile, car, latest news, government scheme, business idea, education and bike remains updated every moment.
https://saharahelpline.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *